Home Remedies for Fever in Hindi : बुखार का घरेलू इलाज

0
163

Bukhar ke gharelu nuskhe in hindi (बुखार का घरेलू इलाज):मौसम बदलता है और इसका असर हमारे शरीर पर होता है। खांसी, सर्दी और बुखार आना साधारण सी बात है। तो जाने बुखार आने के कारण, बुखार के घरेलू नुस्खे, बुखार का इलाज, बुखार के लिए घरेलू उपचार।ऐसी वैसी चीज़े खाने से भी पेट में इन्फेक्शन होने से बुखार आ जाता है और यह एक प्रकार का विषाणु रोग (viral desease) होता है।साधारण कारण से बुखार आ जाए तो home remedies for fever in hindi और बुखार का देसी इलाज जो यहाँ पर बताये है उन का प्रयोग करे। इन घरेलू नुस्खे से बच्चो का इलाज करे और बूढ़ो का भी। कभी-कभी टाइफाइड जैसी घातक बीमारी के कारण भी बुखार आ जाता है। जिसका शमन आसानी से नहीं होता है। अगर दो दिन में बुखार कम न हो और 103 से ऊपर टेम्परेचर हो जाए तो बुखार कम करने के दादी माँ के घरेलू नुस्खे, फीवर का इलाज, बुखार का इलाज इस्तेमाल करने के साथ डॉक्टर के पास तुरंत इलाज करवा ले। ऐसे हालत में घरेलू नुस्खे पर निर्भर न रहे।

जल्दी बुखार ठीक करने के उपाय : Bukhar Ka Ilaj in Hindi

ठंडा पानी न पिएं।

अदरक वाली चाय पिए।

लौंग और शहद की गोली चबाए।

नीम और हल्दी एक असरकारक इलाज है।

दूध में लहसुन उबाल के पिएं।

यष्टिमधु पाउडर और शहद चाटे। 

कोई भी ठंडी चीज़े न खाये।

दही का सेवन न करे।

तुलसी के पत्तो का सेवन करे।

प्याज को तलवे में रखे।

दिन भर कम से कम 3 लीटर पानी पिए।

अगर बुखार तेज़ हो तो ठन्डे पानी की पट्टियां सर पे रखे।

दालचीनी का पानी पिए।

लहसुन वाले सरसो के तेल से हाथ पैरो के तलवे की मालिश करे।
Bukhar Ke Karan Aur Lakshan : बुखार के कारण और लक्षण

Bukhar ke liye gharelu nuskhe in hindi : बुखार के लिए घरेलू नुस्खे आगे बताए जाएंगे उनको इस्तमाल करने से पहले यह भी पता करना जरूरी होता है की आपको बुखार किस वजह से हुआ ताकि वो गलती आगे न हो|

शरीर में बैक्टीरिया का प्रवेश होकर फैलने से शरीर का इम्यून सिस्टम एक्टिव हो जाता है और बैक्टीरिया से लड़ाई करने लगता है। ऐसे में बुखार हो जाता है। वायरस के सामने भी इम्यून सिस्टम सक्रिय हो जाए तो यह बुखार का परिणाम है। वायरस के सामने भी इम्यून सिस्टम सक्रिय हो जाए तो यह बुखार का परिणाम है।

कभी कभी आप पूरा दिन धूप में घूमे जैसे की कहीं टूर पर गए हो तो थकान के कारण भी बुखार हो सकता है।

गहरी बीमारी के कीटाणु शरीर में दाखिल हो तो बुखार हो जाता है।

बुखार होने पर शरीर साधारण 98.4 deg. F से जाकर टेम्परेचर 103 से अधिक हो सकता है। कभी-कभी ठण्ड लगती है और व्यक्ति काँपता है। बेचैनी रहती है, शरीर में दर्द होता है, भूख नहीं लगती है, सुस्ती रहती है, व्यक्ति यूं ही निष्क्रिय बनके पड़ा रहता है। 

बुखार का घरेलू ईलाज – Bukhar Ka Gharelu ilaj in Hindi 

बुखार हो तो ऐसे में तुरंत कुछ न कुछ उपाय तो करना ही चाहिए बुखार के लिए घरेलू नुस्खे इस्तेमाल करने चाहिए। इसके लिए आप यहाँ पर बताये गए bukhar ka ilaj hindi me उसका प्रयोग करे। आधी रात को बुखार आ जाए तो यह बुखार का घरेलू उपचार बहुत काम में आएँगे।

ठन्डे पानी की पट्टी रखे 

बच्चों के बुखार के घरेलू इलाज : बच्चों के बुखार के घरेलू इलाज बुखार (Temperature) बढ़ गया हो तो एक कपड़े को पानी में भिगो के मरीज़ के सर पर छाती पर और पैरो पर रखना चाहिए। आधे-आधे घंटे के अंतर में कपड़े को भिगोकर निचोड़ के रखते रहिये तो टेम्परेचर नियंत्रण में रहेगा। यह बच्चों के बुखार के घरेलू इलाज और घरेलू नुस्खे श्रेष्ट है।

तुलसी के पत्तो का पानी पिए

बुखार (फीवर) का इलाज करने के लिए आप तुलसी के पत्ते और उसे क्रश करके पानी में उबाल दे और इस पानी में शहद डालकर मरीज़ को गरमा गर्म देते रहिये हर घंटे में एक बार एक कप।

निम्बू और अदरक करे बुखार का इलाज

इस बुखार के घरेलू उपचार में आप तुलसी के साथ, निम्बू और अदरक भी डालकर पानी उबाल सकते हैं। यह बुखार के साथ आपके जुकाम और खांसी को भी ठीक करेगा। यह नुस्खा बुखार के घरेलू नुस्खे में सबसे आसान उपाय है।

लहसुन के तेल से मालिश करे 

Bukhar ka gharelu ilaj : बुखार का घरेलू इलाज में लहसुन को तेल में मिलाकर गर्म करे और इस तेल से मरीज़ के पैरो के तलवे पर मालिश करे। अगर जुखाम है तो छाती पर, गले पर, हाथो पर और मस्तिष्क पर भी मालिश करे।

लौंग और शहद की गोली चबाए

Fever ka desi ilaj in hindi : बुखार का देसी इलाज में लौंग को बहुत हल्का भून कर उसका पाउडर बनाये और शहद के साथ गोली बनाकर मरीज़ के मुँह में रखे।

किशमिश खाए और बुखार को बढ़ने से रोके 

Fever ke liye gharelu upay: बुखार के लिए घरेलू उपाय में किशमिश (मुनक्के) को गर्म पानी में भिगोये और क्रश करके तुरंत मरीज़ को खिलाये तो तापमान बढ़ने से रुकेगा यह बुखार कम करने का देसी उपचार है। 

नीम और हल्दी एक असरकारक इलाज है

क्योंकि ज्यादातर बुखार बैक्टीरियल या वायरल इन्फेक्शन से होता है और क्योंकि इसके लिए नीम और हल्दी असरकारक है तो नीम के पत्ते को पानी में उबाले और छान ले। इसमें हल्दी पाउडर मिलाकर मरीज़ को दिन में 3 बार पिलाये बुखार के उपचार में।

लहसुन करे बुखार का इलाज

बुखार के आयुर्वेदिक इलाज में लहसुन भी असरकारक है। दूध में लहसुन उबालकर यह दूध पिए। 

यष्टिमधु पाउडर और शहद चाटे

बुखार का एक और घरेलू इलाज है, यष्टिमधु पाउडर को शहद के साथ मिलाकर चाटे। 

प्याज के टुकड़े तलवे में रखे 

Bachon ke bukhar ka ilaj : बच्चों के बुखार का इलाज एक यह है की आप प्याज का टुकड़ा बच्चे के पैर के तलवे में रखे और कपडा बाँध दे। यह प्याज़ से बुखार का टोटका बच्चों के बुखार को बहुत जल्दी ठीक कर देता है।

ठंडा पानी न पिए

Dadi maa ke nuskhe for fever in hindi : दिनभर गर्म पानी मरीज़ को पिलाये। दादी माँ के नुस्खे बुखार के लिए कहते है अगर पानी में निम्बू या मोसम्बी का रस, अदरक का रस, तुलसी और पुदीने का रस, काला नमक और शहद डाले तो और फायदा होगा। 

दालचीनी का पानी पिए

पानी में दालचीनी डालकर उबाले और यह पानी 3-4 बार पिए। साथ में अदरक और सौंफ डाला जाए तो और असरदार होता है।

ठंडी चीज़े न खाये

ठंडा पानी, आइसक्रीम और मिठाई का सेवन न करे। जो भी बुखार के घरेलू उपाय में न खाने को बोले जाए वो न खाए इससे नुस्खों का असर जल्दी होगा।

दूध दही कुछ समय के लिए छोड़ दे

दही न खाये। दूध का भी सेवन न करे। 

Bukhar ka desi ilaj in hindi या कहे घरेलू उपचार आपने जान लिया इनका फायदा उठाये और इन घरेलू नुस्खों के प्रयोग से आपको बुखार की टेबलेट नहीं लेनी पड़ेगी। तैयार रहे। बुखार कभी भी किसी को भी आ सकता है। बुखार का प्राथमिक उपचार अगर आप करे तो भी बहुत फायदा है। बाद में डॉक्टर को दिखाए। कोई भी फीवर की दवा लेने से पहले डॉक्टर की सलाह ज़रूर लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here