एलोवेरा के प्रयोग से इन चार रोगों का पूरा समाधान हो जाता है

0
251

एलोवेरा दिव्य गुणों से युक्त एक बहुत ही उत्तम औषधिय पौधा है । इसको जूस बनाकर भी सेवन किया जा सकता है और ताजा काटकर इसके गूदे का भी सेवन कर सकते हैं । सेहत से जुड़ी बहुत सारी समस्याओं के समाधान के लिए इसका प्रयोग किया जा सकता है । आज हम आपको उन चार रोगों के बारे में बता रहे हैं जो एलोवेरा के प्रयोग से समाप्त हो जाते हैं ।

एलोवेरा के प्रयोग से पीलिया होता है शांत :-

पीलिया के रोग से परेशान व्यक्ति के लिए एलोवेरा बहुत लाभकारी रहता है । जिन रोगियों को पीलिया की शिकायत हो उनके लिए उचित रहता है कि रोज सुबह और शाम के समय 15 ग्राम एलोवेरा जूस का सेवन किया जाये ।

एलोवेरा के प्रयोग से बालों को मजबूती मिलती है :-

कमजोर होकर टूटते और झड़ते बाल बहुत सारे लोगों के तनाव का कारण बनते हैं । जानकार बताते हैं कि यदि रोज नहाने से पहले एलोवेरा के जैल को सिर पर मालिश किया जाये तो बाल मजबूत होकर टूटना बंद हो जाता है और रूसी की समस्या का भी समाधान हो जाता है ।

 

एलोवेरा के प्रयोग से मोटापा घटाने के लिए मिलती है मदद :-

एलोवेरा का प्रयोग करने से शरीर का मेटाबॉलिज़्म सही होता है जिस कारण से यह उन लोगों के लिए विशेष लाभकारी रहता है जिनको शरीर पर मोटापा चढ़ने की शिकायत रहती है । एलोवेरा के रस में रोज मेथी दाने के चूर्ण मिलाकर सेवन करने से वजन कम करने में मदद मिलती है ।
एलोवेरा के प्रयोग से मिलने वाले लाभ और फायदों के बारे में यह जानकारी आपको अच्छी और लाभकारी लगी हो तो कृपया पोस्ट को लाईक और शेयर जरूर कीजियेगा । आपके एक शेयर से ही किसी जरूरतमंद तक सही जानकारी पहुँचती है और हमको भी आपके लिए और बेहतर लेख लिखने की प्रेरणा मिलती है । इस लेख के समबन्ध में आपके कुछ सुझाव हों तो कृपया कमेण्ट करके हमको जरूर बताइयेगा ।

एलोवेरा के प्रयोग से खाँसी में मिलता है लाभ :-

खाँसी का रोग बहुत तरह का होता है । एलोवेरा का प्रयोग सूखी और जलन वाली खाँसी में किया जाता है । एलोवेरा के पत्ते को बिना छीले हुए ही आग पर 2 मिनट भून लें और फिर इसको छीलकर इसका जैल निकाल लें । इस जैल को सूखी अदरक के चूर्ण के साथ मिलाकर रोज दो तीन बार सेवन करने से लाभ मिल जाता है ।